hindisamay head
डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

तारीखें
प्रेमशंकर शुक्ल


कितनी तारीखों का
धुआँ -
आँच -
और बुझान है
मेरी आँखों में

जमा हैं
कुछ तारीखें
मेरी आयु में
सूखे पत्तों की तरह।
 


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में प्रेमशंकर शुक्ल की रचनाएँ