hindisamay head
डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

एक स्त्री साथ है
प्रेमशंकर शुक्ल


उलझनों से उबार लेता
एक हाथ है

एक स्त्री साथ है
साधे हुए मेरी धरती-आकाश
जोड़े हुए अपनी आयु
मेरी आयु से
 


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में प्रेमशंकर शुक्ल की रचनाएँ