डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

सूर्यास्त
तियांहे

अनुवाद - साधना अग्रवाल


सूर्यास्त पीली पर्वत शृंखला की ऊँची छत पर होता है
जो लगता है हवा की तरह
नीचे लुढ़कते हुए
कल यह लटक गया
रेतीले बेर की एक मृत शाखा पर
मेरी पड़ोसी बहन झाहो ने
इसे काट कर गोधूलि बेला में डाल दिया स्टोव में
पश्चिमी घाटी में सूर्यास्त हो गया
हो सकता है यह भिखारी के कटोरे में गिर जाए
और भिखारी अपनी भीख माँगना छोड़ दे
शायद, यह नीचे गिरे
दूर के गाँवों में
एक कम कुल्ला, और यह लगभग एक काले कुत्ते
का शिकार है
एर्जु* के घर के पास।

* एर्जु अक्सर ग्रामीण इलाकों में एक व्यक्ति का नाम होता है।
 


End Text   End Text    End Text