hindisamay head
डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

आलोचना

मार्क्सवादी सौंदर्यशास्त्र के विकास की दिशा
नामवर सिंह


मार्क्सवादी सौंदर्यशास्त्र डॉ. रमेश कुंतल मेघ का पांडित्यपूर्ण लेख सुनने के बाद सोचना पड़ रहा है कि सौंदर्य की चर्चा इतनी असुन्‍दर क्‍यों होती है। एक तो सौंदर्यशास्त्र जैसा गंभीर विषय, फिर उस पर कुंतल मेघ जी की गुरु-गंभीर भाषा। जिक्र उस परीवश का और फिर बयाँ अपना। राजदाँ भी रकीब होने के लिए लाचार है, बेशक किसी और अन्‍दाज में। कुंतल मेघ जी की यही भाषा सुनकर अज्ञेय ने कभी कहा था कि कुंतल तो कभी-कभी छँट भी जाते हैं, मेघ कभी नहीं छँटते।

सौंदर्यशास्त्र कुछ शास्‍त्र ही ऐसा है कि इसके आसमान में बारहों महीने मेघ छाए रहते हैं। सौंदर्यशास्त्र की जन्‍मकुंडली को ध्‍यान में रखें तो मार्क्सवाद की जमीन पर कोई सौंदर्यशास्त्र रचने में खतरे ही खतरे हैं। कविताएँ पहले भी लिखी जाती थीं, नाटक भी खेले जाते थे और चित्र भी बनाए जाते थे। सब तरह-तरह से। लेकिन एक समय ऐसा आया कि विविध प्रकार की इन सभी क्रियाओं को एक ही रहस्‍यमय शक्ति के अन्‍दर अंतर्भुक्‍त करके उसे 'सौंदर्य' और 'कला' का नाम दे दिया गया और फिर उसका एक शास्‍त्र भी तैयार हो गया जो 'सौंदर्यशास्त्र' कहलाया। यह सब अठराहवीं सदी में घटित हुआ। जर्मनी में 'जर्मन विचारप्रणाली' के रूप में मार्क्‍स ने जिस मानसिकता का विवेचन किया है, यह सौंदर्यशास्त्र उसी का एक अंग है। इस प्रकार सौंदर्यशास्त्र कोई निष्‍पक्ष और निरामिष शास्‍त्र-मात्र नहीं, बल्कि एक 'विचारप्रणाली' के रूप में उदित हुआ। 'सौंदर्यानुभूति' अथवा 'कलानुभूति' इस विचारप्रणाली का ब्रह्मास्‍त्र है जिसके द्वारा जीवन की समस्‍त समस्‍याओं से सहज ही त्राण संभव है। आकस्मिक नहीं कि सौंदर्यशास्त्र में सब से अधिक चिंतन-मनन इस सौंदर्यानुभूति के स्‍वरूप को लेकर ही हुआ है; इसके बाद अगर किसी चीज पर विचार हुआ है तो वह 'सौंदर्य' है और यह सौंदर्य भी सौंदर्यशास्त्रीय ऊहापोह की प्रक्रिया में इतना 'निर्गुण' बन गया कि अंतत: आई.ए. रिचर्ड्स को 'दैट पैरलाइजि़ग ऐपरिशन ब्‍यूटी' के रूप में इसे याद करना पड़ा। अकबर इलाहाबादी के शब्‍दों में :

बाहम शबेविसाल ग़लतफ़हमियाँ हुईं

था उनको वहम भूत का , मुझको था परी का

सौंदर्य जब भूत या चुड़ैल की दशा को प्राप्‍त हो जाए तो उस दिशा में कदम रखते समय विशेष सावधानी की आवश्‍यकता है - खास तौर से एक मार्क्सवादी को। यह शास्‍त्र आसमान में इतनी ऊँचाई तक पहुँच गया है कि उससे अपनी यात्रा शुरू करे तो धरती तक पहुँच पाना मुश्किल ही है। और कुंतल मेघ के मार्क्सवादी सौंदर्यशास्त्र की पहली मुश्किल यही है।

दूसरी मुश्किल मुश्किल नहीं, बल्कि प्रलोभन है। प्रलोभन 'शास्‍त्र' रचने का। एक अरसे से अपने लोग 'मार्क्सवादी सौंदर्यशास्त्र' की माँग कर रहे हैं - ऐसा शास्‍त्र जिसमें कला और साहित्‍य के बारे में मार्क्सवादी दृष्टि से सभी आवश्‍यक बातें सूत्रबद्ध कर दी गई हों। प्रत्‍येक प्रश्‍न पर सुनिश्चित मत सुलभ हों तो जीवन-यात्रा सुगम रहती है और जीवन-संघर्ष सुरक्षित। स्‍तालिन ने ऐसी ही आवश्‍यकता की पूर्ति के लिए 'द्वन्‍द्वात्‍मक और ऐतिहासिक भौतिकवाद' शीर्षक निबंध को सूत्रबद्ध किया था और 'सोवियत संघ की कम्‍युनिस्‍ट पार्टी का संक्षिप्‍त इतिहास' में उसे समाविष्‍ट करके सभी पार्टी-सदस्‍यों के लिए सुलभ बनाया था। स्‍तालिन से पहले कुछ ऐसा ही प्रयास बुखारिन ने भी किया था जिसे उसने मार्क्सवादी समाजशास्‍त्र का सुगम गुटका अथवा 'पाप्‍युलर मैनुअल' की संज्ञा दी थी।

बुखारिन के इस 'गुटका' पर ग्राम्‍शी ने उस समय जो टिप्‍पणी की थी वह आज भी उपयोगी है - मार्क्सवादी सौंदर्यशास्त्रियों के लिए भी। दुर्भाग्‍य से स्‍तालिन की पुस्‍तक को देखने के लिए ग्राम्‍शी जीवित न रहे, वरना उस पर लिखी हुई समीक्षा का प्रभाव और भी व्‍यापक हुआ होता और शायद विश्‍व-मार्क्सवादी चिंतन कुछ भयंकर भूलों से बच भी जाता । बहरहाल, ग्राम्‍शी ने सबसे पहले तो यह सवाल उठाया कि जो सिद्धांत अभी वाद-विवाद, खंडन-मंडन और विस्‍तार की अवस्‍था में है, उसके बारे में क्‍या एक सरल सुगम सुबोध गुटका लिखना संभव है? यह सवाल उठाना इसलिए जरूरी है कि सरल गुटका रूपत: जड़सूत्रवादी, शैली की दृष्टि से संयत और वैज्ञानिक दृष्टि से किसी विषय की सन्‍तुलित व्‍याख्‍या के अलावा और कुछ हो ही नहीं सकता। इसलिए जब तक कोई सिद्धांत विकास की पूर्ण परिपक्‍वावस्‍था तक नहीं पहुँच जाता, उसे गुटकाबद्ध करने का कोई भी प्रयास असफल होने के लिए बाध्‍य है। ग्राम्‍शी की दृष्टि में मार्क्सवादी दर्शन जिस अनुभव पर आधारित है उसे कुछ खाँचों में खतियाया नहीं जा सकता, क्‍योंकि वह अपनी विपुल विविधताओं से सम्‍पन्‍न इतिहास है। ऐसी स्थिति में मार्क्सवाद की परिकल्‍पना खंडन-मंडन और एक सतत संघर्ष के रूप में ही की जा सकती है। इसलिए सही सैद्धांतिक और ऐतिहासिक शब्‍दावली में प्रश्‍न ही क्‍यों न प्रस्‍तुत किए जाएँ?

ग्राम्‍शी के ये विचार स्‍वयं मार्क्‍स के चिंतन और लेखन की मूलधारा में हैं। मार्क्‍स की प्राय: सभी रचनाएँ 'क्रिटीक' अथवा 'समीक्षा' की संज्ञा से अभिहित हैं। वस्‍तुत: मार्क्सवाद का जन्‍म ही एक आलोचनात्‍मक दर्शन के रूप में हुआ, जिसकी प्रकृति खंडन-मंडन की है। इसे सर्वजन-सुलभ बनाने के लिए सूत्रबद्ध करने का काम एंगेल्‍स ने अन्तिम दिनों में शुरू किया। इससे मार्क्सवाद के प्रचार-प्रसार में मदद तो जरूर मिली,लेकिन जैसा कि लक्षित किया गया है, कहीं-कहीं सरलीकरण का खतरा भी पैदा हुआ, यथापि यह उतना बड़ा सरलीकरण नहीं था।

मार्क्सवादी सौंदर्यशास्त्र आज विकास की जिस अवस्‍था में है, उसमें तो शास्‍त्रनिर्माण का प्रयास और भी घातक होगा। सबक लेने के लिए दो उदाहरण पर्याप्‍त होंगे। पहला उदाहरण है सोवियत संघ में 'समाजवादी यथार्थवाद' का शास्‍त्र-निर्माण। शास्‍त्र बनते ही सामाजिक यथार्थ भी सूत्रबद्ध हो गया और उस यथार्थ को अभिव्‍यक्‍त करने की शैली भी। देखते-देखते एक नया रीतिवाद चल पड़ा। रचना में भी। आलोचना में भी। जिस देश ने समाजवादी क्रांति की, वह साहित्‍य और कला के क्षेत्र में कोई क्रांति करने से ठिठक गया। यथार्थ का ऐसा और इतना अपमान तो क्रांति के पहले के साहित्‍य में भी नहीं हुआ था और उन्नीसवीं सदी के यूरोप के साहित्‍य में भी नहीं जब बूर्ज्‍वा क्रांति ने यथार्थवाद को जन्‍म दिया था। हालत बहुत कुछ हिंदी की रीतिवादी कही जानेवाली साहित्‍य-प्रवृत्ति की-सी हो गई, जब अलंकारशास्‍त्र के लक्षण ग्रंथों को सामने रखकर कविताएँ लिखी जा रही थीं। वैसे न यथार्थवाद बुरा है, न समाजवाद ही। मार्क्‍स ने एक समय इन्‍हीं दोनों अवधारणाओं का साहित्‍य-समीक्षा में, फुटकल ही सही, कितने क्रांतिकारी और लचीले ढंग से इस्‍तेमाल किया था। लेकिन शास्‍त्रबद्ध होते ही वही क्रांतिकारी अवधारणाएँ जड़ सूत्रवाद में बदल गईं।

दूसरा उदाहरण जार्ज लुकाच का 'सौंदर्यशास्त्र' नामक विशाल ग्रन्‍थ है। लगभग साठ वर्षों के दीर्घ साहित्‍य-चिंतन को अंतत: एक व्‍यवस्थित शास्‍त्र में बाँधने का विराट प्रयास। हजारों पृष्‍ठों का यह विशाल ग्रन्‍थ अभी तक जर्मन भाषा में ही उपलब्‍ध है और जो जर्मन अच्‍छी तरह जानते होंगे, वही इसके बारे में कुछ विश्‍वासपूर्वक कह सकने में सक्षम होंगे। अंग्रेजी में अभी तक उसके बारे में जो कुछ कहा गया है और उसके छिटपुट अंशों से जो आभास मिला है उसके आधार पर इतना तो कहा ही जा सकता है कि इसमें समस्‍त कलाओं को 'अनुकरण' में निश्‍शेष करने की असफल चेष्‍टा की गई है। इस प्रकार मार्क्सवादी लुकाच जब सभी कलाओं को एक शास्‍त्र में बाँधने चलते हैं तो अंतत: अरस्‍तू की शरण जाने को बाध्‍य होते हैं। किसी अंग्रेजी साप्‍ताहिक ने इस ग्रन्‍थ की समीक्षा के साथ एक ऐसा कार्टून छापा था, जिसमें लुकाच मार्क्‍स की दाढ़ी के साथ अरस्‍तू की शक्‍ल-सूरत और पोशाक में पेश आते हैं। हजारों साल के वैविध्‍यपूर्ण कला-इतिहास को एक अनुकरण की अवधारणा में समेटने का प्रयास कितना उपहासास्‍पद है! यह कैसा ऐति‍हासिक भौतिकवाद है जो एक जड़ शास्‍त्र की वेदी पर समूचे इतिहास की बलि चढ़ाने में भी नहीं हिचकता! आश्‍चर्य नहीं जो अभी तक यह ग्रन्‍थ बहुत कुछ अनपढ़ा ही रह गया। इससे तो कहीं अधिक जीवंत अपेक्षाकृत वे छोटी रचनाएँ हैं जिन्‍हें लुकाच ने खंडन-मंडन के रूप में लिखा है।

इन दो विराट असफलताओं को देखते हुए भी आज यदि कोई विचारक हिंदी में मार्क्सवादी सौंदर्यशास्त्र का व्‍यवस्थित शास्‍त्रीय ग्रन्‍थ लिखने का प्रयास करता है तो वह धन्‍य है! (और - आचार्य शुक्‍ल जोड़ते - धिक्‍कार है)

जार्ज लुकाच के दृष्टांत से मार्क्सवादी सौंदर्यशास्त्र की इस लम्‍बी परंपरा का एक कमजोर पहलू सामने आता है। अक्‍सर वह स्‍वयं 'कला' नामक संस्‍था को चुनौती देने में चूक गया और कला की क्‍लासिकी परिभाषा को स्‍वीकार कर लेने में उसे कोई हानि नहीं दिखाई पड़ी। बुनियादी रूप में एक बार इन परिभाषाओं को स्‍वीकार कर लेने के बाद तो फिर थोड़े-बहुत हेर-फेर के सा‍थ इस-उस कवि या कृति के मूल्‍यांकन का कार्य ही शेष रहता है; और कहने की आवश्‍यकता नहीं कि मार्क्सवादी सौंदर्यशास्त्रियों ने इस क्षेत्र में अपनी प्रतिभा का जौहर बखूबी दिखाया है - ऊँची संस्‍कृति के बड़े-से-बड़े विचारकों से होड़ लेते हुए। व्‍याख्‍या और मूल्‍यांकन की भाषा निश्‍चय ही भौतिकवादी भी है और ऐतिहासिक भी, लेकिन कुल मिलाकर वह प्रभुत्‍वशाली परंपरा से बहुत अलग नहीं है। जार्ज लुकाच तो उन्नीसवीं सदी के यथार्थवादी उपन्‍यासों की परंपरा के हिमायती हैं ही, रूस के समाजवादी यथार्थवाद के तहत लिखे उपन्‍यासों का यथार्थवाद भी उस परंपरा में कुछ विशेष नहीं जोड़ता। मार्क्सवादी

मार्क्सवादी सौंदर्यशास्त्र को यदि परंपरावाद के इस लकीर के फकीर से मुक्‍त होना है तो फिर उन लेखकों के पास जाना होगा जिन्‍होंने इस परंपरावाद को चुनौती देने का साहस किया। ऐसे ही लेखकों में अपने यहाँ प्रेमचंद हैं, जिन्‍होंने 1936 में प्रगतिशील लेखक संघ की स्‍थापना के समय में ही ऐलान किया था कि हमें सौंदर्य की परिभाषा बदलनी होगी। मूल उर्दू में उनके शब्‍द थे - हमें हुस्‍न का मेयार तब्‍दील करना होगा क्‍योंकि 'अभी तक उसका मेयार अमीराना, ऐशपरवराना था।' अजीब बात है कि प्रेमचंद का यह वाक्‍य सौंदर्यशास्त्र पर चिंतन करते समय किसी मार्क्सवादी को याद नहीं आता। इस कथन की प्रासंगिकता प्रेमचंद जयंती तक ही सीमित रहती है - न उसके बाद और न उसके पहले। प्रेमचंद के इस कथन की ताकत यह है कि उन्‍होंने अपनी कहानियों और उपन्‍यासों के जरिए सौंदर्य का एक नया 'मेयार' कायम किया था, जहाँ स्‍वयं उन्‍हीं के शब्‍दों में : 'कशमकशे-हयात में हुस्‍न का मेराज़' है। दूसरे शब्‍दों में : 'जीवन-संग्राम में सौंदर्य का परमोत्‍कर्ष' है।

सौंदर्य की परिभाषा बदलने की इस दिशा में प्रेमचंद के बाद भी प्रगति हुई है। नागार्जुन से धूमिल तक और यशपाल से ज्ञानरंजन तक कवियों और कथाकारों की एक अच्‍छी-खासी परंपरा है, जिसने सौंदर्य संबंधी पुरानी सुरुचि को तोड़कर नई अभिरुचि के लिए सर्जनात्‍मक आधार प्रस्‍तुत किया है। यदि ये सर्जनात्‍मक प्रयोग आज के मार्क्सवादी सौंदर्यशास्त्र के लिए कोई अर्थ नहीं रखते तो फिर वह निर्गुण सौंदर्यशास्त्र भी व्‍यर्थ है। बर्टोल्‍ट ब्रेष्‍ट ने ऐसे ही सौंदर्यशास्त्र को 'उत्‍पादन का शत्रु' कहा था। 'उत्‍पादन' के भौतिकवाद से यदि सौंदर्यशास्त्रीय 'सुरुचि' को ठेस पहुँचती है जो 'सृजन' कह लीजिए, फलश्रुति स्‍पष्‍ट है। नए कला-सृजन से ही सौंदर्यशास्त्र का विकास संभव है। सिद्धांत व्‍यवहार से ही विकसित होता हे। फल में फल नहीं लगता। फल बीज से पैदा होता है और वह भी जब धरती के गर्भ में आता है। व्‍यवहार जगत की इस जानी-मानी बात का जिक्र इसलिए कि मार्क्सवादी सौंदर्यशास्त्र बनाते समय बर्टोल्‍ट ब्रेष्‍ट कभी नहीं याद आते, जब कि जार्ज लुकाच दिमाग पर हमेशा सवार रहते हैं।

प्रेमचंद के प्रसंग से आज की एक और कमी पर नजर पड़ती है। हम जैसे भूलते जा रहे हैं कि सौंदर्य में भी वर्ग-भेद होता है और सौंदर्यबोध के निर्माण में वर्गदृष्टि की भी भूमिका होती है। प्रेमचंद ने इस सच्‍चाई को जीवन के अनुभव से समझा था और मार्क्सवाद पढ़कर भी बहुत- से लोग इस सत्‍य को पकड़ने में अक्षम दिखाई पड़ रहे हैं। इधर के सौंदर्यशास्त्रीय चिंतन से कुछ ऐसा आभास होने लगा है कि सौंदर्य और सौंदर्यबोध वर्गों से ऊपर कोई अतीन्द्रिय अनुभूति है। यह भी एक विडंबना ही है कि आजादी की लड़ाई के दिनों में जब भारत की सारी जनता एक साथ मिलकर लड़ रही थी तो मार्क्सवादी बुद्धिजीवियों में वर्ग भेद की चेतना जरूरत से ज्यादा प्रबल थी और अब जब आजादी मिलने के बाद समाज में वर्गभेद स्‍पष्‍ट होकर उभरने लगा तो बुद्धिजीवियों की वह वर्गचेतना धीरे-धीरे कुंठित होने लगी है। वर्गभेद बढ़ने के साथ वर्गबोध का ह्रास - यह विरोधाभास है या विडंबना? मार्क्सवादी सौंदर्यशास्त्र भी इस असर से अछूता नहीं है।

वर्गचेतना का ऐसा ह्रास तो आजादी के ठीक बाद के शीतयुद्धवाले दशक में भी नहीं हुआ था, जब मार्क्सवाद के असर को खत्‍म करने के लिए 'विचारप्रणाली के अंत' का प्रचार जोरों पर था। उस समय शीतयुद्ध की इस विचारधारा से लड़ने की भावना प्रबल थी और इसलिए एक विचारप्रणाली के रूप में मार्क्सवाद के लिए आग्रह भी था। यह भी एक विडंबना ही है कि इधर जब से विचारप्रणाली को मार्क्सवादी चिंतन के अंतर्गत प्रमुख ही नहीं बल्कि केंद्रीय स्थान प्राप्‍त हुआ है, स्‍वयं मार्क्सवाद में आस्‍था क्षीण हुई है। देखा जाए तो 'विचारप्रणाली के युग का अंत' अब हुआ है। यह तथाकथित नव-मार्क्सवाद की देन है।

फिर भी कुछ लोगों को शिकायत है कि हिंदी का मार्क्सवादी साहित्‍य-चिंतन पश्चिम के विकसित नव-मार्क्सवाद से अपरिचित होने के कारण ही अभी तक विकास नहीं कर पा रहा है। आयात से ही विकास संभव होता तो विचारों के मामले में तो सरकार से किसी लाइसेंस की भी जरूरत नहीं है। कल जो कांट, हेगेल और क्रोचे के सहारे भारत में सौंदर्यशास्त्र का विकास कर रहे थे वे आज भी आयात में किसी तरह पीछे नहीं है। अडोर्नो, हर्बर्ट मारकूज, वाल्‍टर बेन्‍यामिन, ग्राम्‍शी, रेमंड विलियम्‍स, फ्रेडरिक जेम्‍सन, टेरी इगलटन ही नहीं, बल्कि रोलाँ बार्थ, मिशेल फु़को, ज्याक देरीदा, ज्याक लाकाँ आदि के नाम अपने यहाँ भी समय-असमय लेखों और भाषणों-संभाषणों में टपकते ही रहते हैं। फिर भी यह तथ्‍य है कि सौंदर्य की परिभाषा नहीं बदल रही है - कम-से-कम शास्‍त्र के धरातल पर। पश्चिमी देशों में इस बीच कहीं कोई बड़ी राजनीतिक क्रांति भले न हुई हो, विचारों की दुनिया में काफी उथल-पुथल हुई है - विशेषत: मार्क्सवादी चिंतन में। यह परिवर्तन इक्‍की -दुक्‍की इकाइयों तक सीमित नहीं है, बल्कि विचार-जगत की पूरी संरचना में आया है, संरचनात्‍मक परिवर्तन भी कह सकते हैं। पुराने सवालों के नए जवाब देने की जगह एकदम नए पैमाने से नए प्रश्न उठाए जा रहे हैं। 'आधार' और 'अधिरचना' के संबंधों पर ही नए सिरे से विचार नहीं हो रहा है, बल्कि स्‍वयं इन संकल्‍पनाओं की प्रकृति को लेकर नए सवाल किए जा रहे हैं। जिस भाषा को एक समय चंद भाषावैज्ञानिकों और काव्‍यभाषा को लेकर चिंतित रहनेवाले काव्‍यचिंतकों के हवाले कर दिया गया था, आज वह भाषा विचारप्रणाली के केंद्र में आ गई है। बातें और भी हैं और मार्क्सवादी सौंदर्यशास्त्र के लिए सार्थक भी। किंतु इनमें से प्रत्‍येक का एक निश्चित राजनीतिक संदर्भ है और अपने राजनीतिक संदर्भ को भूलकर उनमें से किसी की ओर कुतूहलवश लपकने से विशेष लाभ होनेवाला नहीं है।

इसलिए जैसा कि पहले कहा गया, असल सवाल उस सौंदर्यशास्त्र का है जो हमारे सौंदर्यबोध को बदलने में कारगर अस्‍त्र हो। मेरी जानकारी में इस बीच इस दिशा में एक ही कोने से संगठित स्‍वर उठा है। मराठी के दलित लेखकों ने एक अलग वैकल्पिक सौंदर्यशास्त्र बनाने का नारा दिया है। अभी तक वह शास्‍त्र बना भले ही न हो, लेकिन सौंदर्यशास्त्र का एक विकल्‍प तो सामने आया ही, इसमें कोई संदेह नहीं। मार्क्सवादी सौंदर्यशास्त्र अभी तक उसकी उपेक्षा ही करता आया है। दुविधा शायद वर्ग-वर्ण के द्वैत अथवा द्वन्‍द्व को लेकर है। किंतु इसमें कोई शक नहीं कि अंतत: इस चुनौती को स्‍वीकार करना ही पड़ेगा। प्रश्‍न प्रभुत्‍व का है, सत्‍ता का है और यह ऐसा प्रश्‍न है जिसकी उपेक्षा सौंदर्यशास्त्र भी नहीं कर सकता - मार्क्सवादी सौंदर्यशास्त्र तो और भी नहीं।

(4 सितंबर, 1983 को दिल्ली में आयोजित जनवादी लेखक संघ के सम्मेलन में दिए गए भाषण का संशोधित और पुनर्लिखित रूप)


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में नामवर सिंह की रचनाएँ