hindisamay head
आइए पढ़ते हैं : तोल्सतोय की रचनाएँ
नया साल इस पखवारे संपादकीय सूचना

कविताएँ
रुनु महांति
अनुवाद : शंकरलाल पुरोहित

प्रेमिका
जिस राह पर वह चलती है
वहाँ अनेकों की आँख फिरती है।
अनेक अकर्म शिला फेंक कर
एक मोती
प्रेमिक हाथ की मुट्ठी में रखती ।

प्रेम एक साधना, कोई खेलघर नहीं
प्रेमिका एक मयूरकंठी साड़ी,
पटवस्त्र नहीं।
जैसा वह हीरे का टुकड़ा
हजार गलमालाओं में
वह निःसंगता का मंत्र पढ़ती।
नदी गढ़े, सागर गढ़े
भूगर्भ से खुल आए बन्या में।

रवि अस्तमित के समय भी वह झटकी
ऊँची भूमि को जाए
अमृत पीए - विष भी पीए।
पिछली जमीन उड़ाने
त्रिवेणी घाट पर डुबकी लगाए।
पेड़-पौधे में बह जाए
जैसे वह धीर पवन है।

वह कितनी सीधी है, सुबह की धूप की तरह
वह कितनी चंचल
जैसे साँझ की बदली, सागर की लहर।
रंगमय उसकी सत्ता,
पुरुष दहल जाएगा
उसकी कटाक्ष एक ऊँचाई की बाड़।

कौन था साक्षी ?

उस दिन कौन था साक्षी ?
चिड़िया या चैती ? सागर या सूनी रात
फूल या फागुन, झींगुर या झाऊवन
कौन था साक्षी उस दिन ?

मैं किस खेत का तिनका
तुम किस वन की लड़की
किस स्रोत, किस नदी ने
हमें किया था एक साथ ?
अब कौन किधर
जैसे भेंट हुई नहीं कभी कहीं।

तुम्हें कहती
कितने सुंदर दिखते सफेद धोती पहन
लो, अगरु-चंदन, दूब, फूल
रखे तुम्हारे पाँव के लिए सहेज रखे।
कहती कान में, तुम्हारे लिए
आज से अवशिष्ट रात।

वंदना

आज वंदना करनी है
इस रात की।
आज की रात और लौटेगी कल ?
होंठ से होंठ मिलाऊँगी
वन-बेर खिला दूँगी
फूस की झोंपड़ी में घर करूँगी

और जटा रँग दूँगी मयूर पंख में।
लहरों पर खेलूँगी
रँगोली आँकूँगी पानी पर।

आज वंदना करनी है हर पेड़ की,
हर पात, फूल, मेघ की।
साथी धू-धू पवन, और सागर लहरों की
या करूँगी चाँदनी रात की।
गूँथ रखूँगी स्मृति को।
आगे बढ़ा लूँगी आनंद को।
आज वरणमाला पहना देनी होगी
मेरे मीत को।
सूर्यास्त के बाद जिसने मुझे भेंट दिया है आलोक।
सहस्र देवताओं के नाम मैं कभी न लूँगी।
केवल रटती रहूँगी
प्रेमिक ! प्रेमिक !

वर्षा होने पर चढ़ना किसी के बरामदे में

वर्षा होने पर चढ़ना किसी के बरामदे में
झड़ में जैसे किवाड़ खिड़की बंद करना
आओ सम्हाल लें दबाब को।
देह से झाड़ लें धूल,
साफ कर लें काँच की किरचों को।

पिंजरे में बंद पक्षी, पंछी नहीं
जो नहीं उड़ सके आकाश में।
मैं क्या नहीं जानती ?
नंगा होना कितना असम्मान ?
अगर साड़ी में लगी आग
फेंकें या नहीं फेंकें ?

जीवन में दुख तो हैं गाड़ी भर
कूड़े की तरह
तीन भाग दबाए बैठा घर।
सब क्या दिखा सकती ?
मैं पाँव से छाती तक डूबी हूँ पानी में।
अब हम क्या करें ?
सीढ़ी चढ़ें या कुआँ में उतरें ?

पागल का कांड करना ?
पहाड़ को तोड़ना ?
भूतनी होना ?
मंडल में बैठना, मधु चूसना ?
या रूमाल उड़ाते चलें राज रास्ते पर ?
जितना गुणा करें, गुणनफल हमारी आत्मीयता।

खो जाएँ क्या ? पवन की तरह फूल में।
मीत रे ! प्राण पोखर न बने
सागर में अधिक पानी तो
सच कितनी अधिक लहरें !

प्रेमिका की जन्मकुंडली तो अलग
ताकि पहचानें मंदिर को,
हों चक्र, कलश और पताका।
बड़ी बात
व्यवस्था के बीच रह
एक हो सकेंगे रसिक।

धरोहर
रसखान
सुजान-रसखान

अपनी काव्य-यात्रा का संकल्प लेते समय इब्राहीम मियाँ ने प्रेम-देव की छवि छककर उनका नाम रसखान ले लिया और रसखान का नाम हिंदी साहित्य में एक सार्थक नाम बन गया। रसखान के लौकिक प्रेम के अलौकिक प्रेम में रूपांतर की कथा प्रसिद्ध है। रसमय ब्रज क्षेत्र में उनकी समाधि है। यह भी एक अद्भुत संयोग है कि रसखान अतृप्त आकांक्षाओं के वन में सोए हैं। 'उनका काव्य वियोग-विथा की मजूरी है।' उनकी भाषा ब्रज के उस खरिक की भाषा है, जो श्रीकृष्ण के हृदय में खरकता रहता है, क्योंकि वह भाषा छल-कपट रहित सीधी भाषा है। उस भाषा में संबोधन करने वाला और संबोधित होने वाला व्यक्ति दो नहीं एक ही है, वही अपने आप गोपी बनता है, वही अपने आप कृष्ण बनता है, अपने आप उलाहना देता है, अपने आप उत्तर देता है, कभी अकेला हो जाता है तो सोचता है सब ऐश्वर्य झूठ है, यह सारा राजपाट व्यर्थ है। ...रसखान की कविता निरंतर रसखान के आने की उत्सुकता है, इसी लिए रसखान की काव्य-यात्रा एक अंतहीन काव्य-यात्रा है। - विद्यानिवास मिश्र

विशेष
राजीव रंजन गिरि
गांधी की व्यथा - एक प्रसंग के बहाने कुछ बातें

संस्मरण
बसंत त्रिपाठी
मेरे पिता
(एक प्रवासी उड़िया मजदूर की जीवन-गाथा)

कहानियाँ
संतोष श्रीवास्तव
फरिश्ता
शहीद खुर्शीद बी
एक और कारगिल
अजुध्या की लपटें
अपना-अपना नर्क
शहतूत पक गए हैं!

उपन्यास
यशवंत कोठारी
यश का शिकंजा

आलोचना
माधव हाड़ा
मीराँ की कविता में उसका स्त्री अनुभव और संघर्ष

विमर्श
वैभव सिंह
इतिहास निर्माण और राष्ट्र का आख्यान
(संदर्भ : उन्नीसवीं सदी का हिंदी लेखन)

व्यंग्य

व्यंग्य
पंकज प्रसून
बैंड बनाम बैंडेज
इष्ट देव सांकृत्यायन
कस्तूरी कुंडल बसै...

सिनेमा
महेश्वर तिवारी
हिंदी सिनेमा का बाल पक्ष
हिंदी एनिमेशन फिल्मों की दुनिया

कविताएँ
कमल कुमार
मत्स्येंद्र शुक्ल
अनिल कुमार पुरोहित

संरक्षक
प्रो. गिरीश्‍वर मिश्र
(कुलपति)

संपादक
अरुणेश नीरन
फोन - 07743886879
09451460030
ई-मेल : neeranarunesh48@gmail.com

प्रबंध संपादक
डॉ. अमित कुमार विश्वास
फोन - 09970244359
ई-मेल : amitbishwas2004@gmail.com

सहायक संपादक
मनोज कुमार पांडेय
फोन - 08275409685
ई-मेल : chanduksaath@gmail.com

संपादकीय सहयोगी
तेजी ईशा
फोन - 09096438496
ई-मेल : tejeeandisha@gmail.com

तकनीकी
गुंजन जैन
फोन -
ई-मेल : harishchandra1645@gmail.com

विशेष तकनीकी सहयोग
गिरीश चंद्र पांडेय
फोन - 09422905758
ई-मेल : gcpandey@gmail.com

अंजनी कुमार राय
फोन - 09420681919
ई-मेल : anjani.ray@gmail.com

हेमलता गोडबोले
फोन - 09890392618
ई-मेल : hemagodbole9@gmail.com

आवश्यक सूचना

हिंदीसमयडॉटकॉम पूरी तरह से अव्यावसायिक अकादमिक उपक्रम है। हमारा एकमात्र उद्देश्य दुनिया भर में फैले व्यापक हिंदी पाठक समुदाय तक हिंदी की श्रेष्ठ रचनाओं की पहुँच आसानी से संभव बनाना है। इसमें शामिल रचनाओं के संदर्भ में रचनाकार या/और प्रकाशक से अनुमति अवश्य ली जाती है। हम आभारी हैं कि हमें रचनाकारों का भरपूर सहयोग मिला है। वे अपनी रचनाओं को ‘हिंदी समय’ पर उपलब्ध कराने के संदर्भ में सहर्ष अपनी अनुमति हमें देते रहे हैं। किसी कारणवश रचनाकार के मना करने की स्थिति में हम उसकी रचनाओं को ‘हिंदी समय’ के पटल से हटा देते हैं।

हमें लिखें

अपनी सम्मति और सुझाव देने तथा नई सामग्री की नियमित सूचना पाने के लिए कृपया इस पते पर मेल करें :
hindeesamay@gmail.com